करियर Live.net

Remote Sensing क्या है, ISRO के कोर्स में कैसे मिलता है दाखिला

Remote Sensing एक ऐसी Technology है, जिसमें करियर की काफी अच्छी संभावनाएं हैं (Career in Remote Sensing in India in Hindi)। देश के प्रीमियम इंस्टीट्यूट -Indian Institute of Remote Sensing (IIRS) में साल 2021-2022 के लिए Admission Process जारी है, आप चाहें तो P.G. Diploma, M.Sc.और M.Tech. में दाखिला ले सकते हैं। इस लेख में हम विस्तार से जानेंगे कि IIRS में कौन-कौन से कोर्स हैं (Indian Institute of Remote Sensing Courses in Hindi) और किस तरह दाखिला ले सकते हैं (How to get admission in IIRS in Hindi)। हम यह भी जानेंगे कि IIRS के ऐसे कौन से International Program हैं, जो नीदरलैंड के साथ  चलाए जाते हैं।

क्या है Remote Sensing

हम आगे कोर्स की बात करें, उसके पहले जान लेते हैं कि Remote Sensing क्या है (What is Remote Sensing in Hindi)। रीमोट सेंसिंग का शाब्दिक मतलब तो सुदूर संवेदन है, पर यह एक ऐसा Science है, जिसमें किसी चीज या किसी एरिया के संपर्क में आए बिना दूर से ही आंकड़े इकट्ठा करते हैं। Remote Sensing Term खास तौर पर धरती के बारे में जानकारी एकत्रित करने में इस्तेमाल होता है। सैटेलाइट या फिर एयरक्राफ्ट में Sensor Technology इस्तेमाल में आती है। (Career in Remote Sensing and GIS in india in Hindi) जमीन का सर्वे करना हो, जंगल की आग को नियंत्रित करना हो, दूर-दराज के इलाकों में सड़कों की हालत का पता लगाना हो, किसी जगह पर स्मार्ट सिटी विकसित करना हो आदि के अलावा मिलिट्री और खुफिया जानकारी जुटाने में भी यह तकनीक इस्तेमाल में लाई जाती है।

क्या है IIRS और किस तरह जुड़ा है ISRO से

Remote Sensing की पढ़ाई के लिए विशेष रूप से IIRS का जिक्र आता है, तो यह भी जान लेते हैं कि IIRS क्या है (What is IIRS in Hindi?)। Remote Sensing और Geoinformatics and GPS Technology में रिसर्च, उच्च शिक्षा या ट्रेनिंग के लिए यह प्रीमियम इंस्टीट्यूट है, जिसे Indian Institute of Remote Sensing के नाम से जाना जाता है। यह उत्तराखंड के देहरादून में स्थित है। पहले इसे Indian Photo-Interpretation Institute (IPI) के नाम से जाना जाता था। इसकी स्थापना 21 अप्रैल, 1966 को नीदरलैंड सरकार की सहायता से की गई थी। 30 अप्रैल, 2011 को Indian Space Research Organisation (ISRO) ने IIRS को स्वतंत्र यूनिट के तौर पर मान्यता दी।

IIRS के Educational Courses

IIRS के कई स्तर के कोर्स हैं, जिनके बारे में भी जान लेना जरूरी है (IIRS Educational Courses in Hindi)। यहां से 4 महीने का Certificate course, 10 महीने का Post Graduate Diploma, M.Tech. in Remote Sensing and GIS, Master’s in Science जैसे कई कोर्स कर सकते हैं।

International Program से जुड़ने का मौका

IIRS में आप International Program से भी जुड़ सकते हैं। इसके कई कोर्स नीदरलैंड की University of Twente के साथ मिलकर चलाए जाते हैं।

PG Diploma के लिए Admission Process

IIRS से Post Graduate Diploma (PGD) in Remote Sensing & GIS के Specialization कोर्स के लिए Admission Process अभी जारी है (IIRS PGD Course in Hindi)। अपनी रुचि के मुताबिक कोर्स चुन सकते हैं। एक बार Specialization अलॉट हो जाने पर फिर कोई बदलाव नहीं किया जाता है।

PGD में Specialization कोर्स क्या-क्या

  1. Agriculture and Soils (कुल 3 सीटें) 2.Forest Resources & Ecosystem Analysis (कुल 3 सीटें) 3.Geosciences (कुल 3 सीटें), 4. Marine & Atmospheric Sciences ( कुल 3 सीटें)  4. Urban and Regional Studies ( कुल 3 सीटें) 5. Water Resources ( कुल 3 सीटें)  6.Satellite Image Analysis & Photogrammetry (कुल 3 सीटें),  7.Natural Hazards & Disaster Risk Management ( कुल 3 सीटें) 8.Spatial Data Science (कुल 6 सीटें).

कितनी है Fee :  72,000+4500/हर महीने (रहने और खाने का खर्च)

क्या है Eligibility : Science से Intermediate, B.E./B.Tech./M.Sc./M.Tech. विस्तार से जानकारी के लिए Official Website (नीचे लिंक दी गई है) पर जाएं।

उम्रसीमा : 45 साल।

कब कर सकते हैं Apply : 10 अप्रैल आखिरी तारीख है।

Official Website के लिए क्लिक करें।

M.Tech. के लिए Admission Process

IIRS से आप M.Tech. in Remote Sensing & GIS के Specialization कोर्स के लिए Admission Process अभी जारी है (IIRS PGD Course in Hindi)। अपनी रुचि के मुताबिक कोर्स चुन सकते हैं। M.Tech. Degree आंध्र यूनिवर्सिटी, विशाखापत्तनम से दी जाती है। एक बार Specialization अलॉट हो जाने पर फिर कोई बदलाव नहीं किया जाता है।

M.Tech. में Specialization कोर्स क्या-क्या

1.Marine & Atmospheric Sciences  2.Agriculture & Soils 3.Forest Resources & Ecosystem Analysis 4.Geosciences 5.Urban & Regional Studies 6.Water Resources 7.Satellite Image Analysis & Photogrammetry 8.Geoinformatics 9.Natural Hazards & Disaster Risk Management.

कितनी है सीटें : 60 (सभी Specializations को मिलाकर)

उम्रसीमा : 45 साल।

कितनी है Fee : 1,44,000 (IIRS Fee)+20,000 (University Reg.)+4500/हर महीने (रहने और खाने का खर्च)

क्या है Eligibility : Science से Intermediate, B.E./B.Tech./M.Sc.  विस्तार से जानकारी के लिए Official Website (नीचे लिंक दी गई है) पर जाएं।

कब कर सकते हैं Apply : 10 अप्रैल आखिरी तारीख है।

Official Website के लिए क्लिक करें।

PG Diploma in Geoinformation Science & Earth Observation

IIRS से Post Graduate Diploma in Geoinformation Science & Earth Observation with Specialization  in Geoinformatics में Admission Process अभी जारी है (IIRS PG Diploma Course in Hindi)। IIRS यह कोर्स नीदरलैंड की Faculty of Geoinformation Science & Earth Observation (ITC), University of Twente के साथ मिलकर चलाता है।

कितनी है Fee : 80,000 (IIRS Fee)+EURO 450 (ITC Fee)+ 4500/हर महीने (रहने और खाने का खर्च)

कितनी हैं सीटें : 10

उम्रसीमा : 45 साल

क्या है Eligibility :  Science से Intermediate, B.E./B.Tech./M.Sc./M.Tech. विस्तार से जानकारी के लिए Official Website (नीचे लिंक दी गई है) पर जाएं।

कब कर सकते हैं Apply : 10 अप्रैल आखिरी तारीख है।

Official Website के लिए क्लिक करें।

M.Sc. in Geoinformation Science & Earth Observation

IIRS से M.Sc. in Geoinformation Science & Earth Observation with Specialization  in Geoinformatics में Admission Process अभी जारी है (career in geoinformatics and remote sensing in Hindi)। IIRS यह कोर्स नीदरलैंड की Faculty of Geoinformation Science & Earth Observation (ITC), University of Twente के साथ मिलकर चलाता है। University of Twente की ओर से यह डिग्री दी जाती है।

कितनी है Fee : 1,60,000 (IIRS Fee)+EURO 11,048 (ITC Fee)+ 4500/हर महीने (रहने और खाने का खर्च)

कितनी हैं सीटें : 10

उम्रसीमा : 45 साल

क्या है Eligibility :  Science से Intermediate, B.E./B.Tech./M.Sc./M.Tech. विस्तार से जानकारी के लिए Official Website (नीचे लिंक दी गई है) पर जाएं।

कब कर सकते हैं Apply : 10 अप्रैल आखिरी तारीख है।

कोर्स के बाद क्या संभावनाएं

Remote Sensing में कोर्स करने वालों की सरकारी से लेकर निजी क्षेत्र में भी अच्छी मांग है (Career after Remote Sensing in India in Hindi)। Indian Air Force में Remote Sensing and GIS Analyst के तौर पर ज्वाइन कर सकते हैं, जिसमें Experience के साथ लाखों में सैलरी है।  इसके अलावा Research से लेकर Urban Planing, Disaster Management Consultancy जैसे कई फील्ड में अवसर मिल सकता है, जिसमें 45,000 रुपये तक महीने की सैलरी ऑफर की जाती है।

28 thoughts on “Remote Sensing क्या है, ISRO के कोर्स में कैसे मिलता है दाखिला”

Leave a Comment