करियर Live.net

NEET-2021 के बारे में जानिए, MBBS की कितनी सीटें

मेडिकल की प्रवेश परीक्षा (NEET-21) इस साल 1 अगस्त को होने वाली है। पहले यह अनुमान लगाया जा रहा था कि JEE की तरह यह परीक्षा साल में दो बार हो सकती है, पर केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने साफ कर दिया है कि NEET-21 का आयोजन एक बार ही होगा। इस लेख में हम विस्तार से NEET के बारे में जानेंगे। कैसे परीक्षा में शामिल हो सकते हैं और देश भर में कितनी सीटें हैं।

2013 से NEET का आयोजन

सबसे पहले यह जान लेते हैं कि NEET क्या है (What is NEET in Hindi)? NEET का मतलब National Eligibility Cum Entrance Test है। National Testing Agency (NTA) इसका आयोजन करती है। इसे पहले All India Pre-Medical Test (AIPMT) के नाम से जाना जाता था। पहली बार 2013 में NEET का आयोजन किया गया था, लेकिन कानूनी मामलों की वजह से 2014 और 2015 में  इसका आयोजन नहीं हो पाया था। उसके बाद से यह लगातार जारी है। पहले AIPMT के अलावा राज्यों और अलग-अलग मेडिकल कॉलेजों की ओर से भी प्रवेश परीक्षा (Entrance Test) आयोजित की जाती थी, लेकिन NEET अब Under Graduate स्तर की ऐसी  एकमात्र परीक्षा है, जिसके जरिये देश के सभी सरकारी और प्राइवेट मेडिकल कॉलेज में दाखिला होता है। इस परीक्षा में 720 अंकों के 180 प्रश्न होते हैं, जिनके लिए 180 मिनट का वक्त होता है।

NEET में कौन-कौन से कोर्स

NEET के माध्यम से कई कोर्स में दाखिला मिलता है (Courses under NEET in Hindi)। NEET में हासिल रैंक के आधार पर MBBS (Bachelor of  Medicine, Bachelor of Surgery), BDS (Bachelor of Dental Surgery), BAMS (Bachelor of Ayurvedic Medicine and Surgery), BSMS (Bachelor of Siddha Medicine and Surgery), BUMS (Bachelor of Unani Medicine and Surgery) और  BHMS (Bachelor of Homeopathic Medicine and Surgery) में दाखिला होता है।

NEET के लिए उम्रसीमा और योग्यता

NEET के लिए उम्रसीमा और योग्यता (Age limit and Eligibility for NEET in Hindi) की बात करें तो 17 साल Lower age limit और 25 साल (Reserved Category के लिए 30 साल) Upper age limit है। 25 साल पूरे होने तक लगातार प्रयास कर सकते हैं। 12वीं की परीक्षा दे रहे या फिर 50 फीसदी अंकों (Reserved Category के लिए 40 फीसदी ) के साथ पास कर चुके छात्र NEET में शामिल हो सकते हैं। 12वीं में Physics, Chemistry, Biology, English विषय होना अनिवार्य है।

64 साल की उम्र में कैसे निकाला NEET

साल 2020 में उड़ीसा के रहने वाले और बैंक की सेवा से रिटायर्ड जय किशोर प्रधान ने 64 साल की उम्र में NEET निकाल कर सभी को अचंभित कर दिया था। अगर NEET के लिए Upper age limit 25 साल है तो यह कैसे संभव हुआ? दरअसल, साल 2019 में सुप्रीम कोर्ट ने अपने आगे के फैसले तक पढ़ाई के लिए Upper age limit को खत्म कर दिया था, जिसका लाभ जय किशोर प्रधान को मिला था और उन्होंने अपने सपने को पूरा किया था।

 NEET के लिए कैसे करें आवेदन

NEET के लिए आवेदन की क्या प्रक्रिया है, इसे जान लेते हैं (NEET application process in Hindi)। इच्छुक छात्र को Official Website – ntaneet.nic.in पर Online आवेदन करना होगा। इस Website पर जाकर Login बनाना होगा, फिर Application Form को भरना होगा। जो भी कागजात मांगे जाएं उन्हें Upload करना होगा। इसके बाद Application Fee का Online भुगतान कर दें। इसमें कोई गड़बड़ी रह जाती है तो छात्रों को उसे सुधारने का एक मौका और मिलता है। Application Window  बंद होने के बाद NTA की ओर से Correction Window कुछ वक्त के लिए खोला जाता है, उस दौरान किसी भी गड़बड़ी को सुधार सकते हैं।

NEET में कितनी सीटें?

हाल में स्वास्थ्य राज्यमंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने लोकसभा में MBBS की सीटों की उपलब्धता के बारे में जानकारी दी थी। उन्होंने बताया कि देश में कुल 562 मेडिकल कॉलेज हैं, जिनमें 286 सरकारी और 276 प्राइवेट मेडिकल कॉलेज हैं, इन दोनों को मिलाकर 84,649 MBBS की सीटें हैं। इनमें से 43237 सीटें सरकारी मेडिकल कॉलेजों में, 41190 प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों में, जबकि 222 सीटें EWS (Economically Weaker Sections) के लिए हैं। रिजर्वेशन की बात करें तो SC 15%, ST 7.5% और OBC 27% है।

NEET में कौन-कौन सी भाषा?

11 भाषाओं में मेडिकल की प्रवेश परीक्षा NEET-21 (Languages in NEET in Hindi) दे सकते हैं। इनमें – इंग्लिश, हिंदी, असमिया, गुजराती, बंगाली, मराठी, ओड़िया, कन्नड़, तमिल, तेलुगू और उर्दू शामिल हैं।

NEET की Answer Key, OMR Sheet

परीक्षा के बाद NTA की ओर से आपकी Answer Key और  OMR Sheet जारी की जाती है। इसके लिए Official Website – ntaneet.nic.in पर नोटिफिकेशन जारी होती है। अगर आपको लगता है कि आपका जवाब सही है, पर उसे जोड़ा नहीं गया है तो आप उस पर आपत्ति जता सकते हैं। जितने भी सवाल पर आपत्ति करेंगे, उसके लिए फीस भरनी होगी। अब समझ लेते हैं कि OMR Sheet क्या है? OMR का मतलब है – Optical Mark Reader इसे Optical Mark Response भी कहते हैं। यह एक तरह का स्कैनर है। NEET समेत कई परीक्षाओं में OMR Sheet का इस्तेमाल होता है। इसमें सही उत्तर के लिए गोले को पेंसिल की सहायता से भरने का निर्देश होता है, यही OMR Sheet होती है। यह स्कैनर आपके भरे गोले को स्कैन करता है और आपके जवाब को पहचान लेता है।

NEET की Counselling कैसे होती है?

  1. NEET में Qualified (NEET Counselling process in Hindi) कर जाने पर ऑल इंडिया कोटा और स्टेट कोटा दोनों में काउंसिलिंग की पात्रता हासिल हो जाती है। दोनों जगहों पर काउंसिलिंग के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  2. ऑल इंडिया कोटा के आधार पर MBBS और BDS के लिए मेडिकल काउंसिलिंग कमेटी (MCC) इसका संचालन करती है, जबकि आयुष (AYUSH) की सीटों के लिए आयुष एडमिशंस सेंट्रल काउंसिलिंग कमेटी (AACCC) संचालन करती है। राज्यों की कमेटी अपने-अपने कोटे के आधार पर MBBS, BDS और AYUSH की सीटों के लिए काउंसिलिंग करती है।
  3. काउंसिलिंग के लिए रजिस्ट्रेशन के बाद अपनी पसंद के कॉलेजों का चयन करना होता है, इसमें जितने चाहे कॉलेज भर सकते हैं, फिर रजिस्ट्रेशन फीस और सिक्योरिटी मनी का भुगतान करना होता है। सिक्योरिटी मनी Refundable होती है।
  4. अगर पहले राउंड में आपको सीट मिल जाती है तो MCC की Website से अलॉटमेंट लेटर निकाल कर संबंधित कॉलेज में जमा करवा कर एडमिशन ले सकते हैं। अगर आप पहले राउंड में नहीं चुने जाते हैं तो दूसरे राउंड के लिए अपनी पसंद के कॉलेज के लिए आवेदन कर सकते हैं, पर इसमें अपनी रैंक और पहले राउंड के Cutoff का ध्यान रखना होता है।

कितने नंबर पर मिलेगा सरकारी कॉलेज

अब सबसे बड़ा सवाल कि आखिर NEET में कितने नंबर लाने पर सरकारी कॉलेज में दाखिला मिल पाएगा। जैसा कि आपको हम बता चुके हैं कि 286 सरकारी मेडिकल कॉलेजों में 43237 सीटें हैं। ऑल इंडिया कोटा और स्टेट कोटा के आधार पर ये सीटें अलॉट की जाएंगी। सभी मेडिकल कॉलेजों में 15 फीसदी सीटें ऑल इंडिया कोटा और बाकी स्टेट कोटा में आती हैं। सरकारी कॉलेज में दाखिला हर साल Cutoff पर निर्भर होता है। NEET-20 की बात करें तो General Category के छात्रों को Minimum 147 अंक (50 Percentile) और  Reserved Category के छात्रों को Minimum 113 (40 Percentile) अंकों की जरूरत थी। General Category के छात्रों को सरकारी कॉलेज में दाखिले के लिए 520 से ज्यादा अंकों की जरूरत थी। अगर आप  अपना Percentile निकालना चाहें तो यह फॉर्मूला अपना सकते हैं – आपका स्कोर*100/टॉपर का स्कोर =  NEET Percentile.

1 thought on “NEET-2021 के बारे में जानिए, MBBS की कितनी सीटें”

Leave a Comment