करियर Live.net

रिसर्च स्कॉलर से जानिए, Quantum Physics में कैसे बना सकते हैं करियर

Careerlive.net के पहले इंटरव्यू के लिए रिसर्च स्कॉलर चिराग श्रीवास्तव हमारे साथ जुड़े। वह Mathematics और Theoretical Physics  में रिसर्च के लिए प्रसिद्ध हरीश-चंद्र रिसर्च इंस्टीट्यूट, इलाहाबाद में Quantum Information पर Ph.D. कर रहे हैं। American Physical Society की पत्रिकाओं में उनके कई रिसर्च पेपर प्रकाशित हो चुके हैं। हमने उनसे जाना कि Quantum Physics में करियर कैसे बनाया जा सकता है (Career in Quantum Physics in India in Hindi) और Quantum Information में रिसर्च के बाद क्या-क्या संभावनाएं हैं (Career in Quantum Information in India in Hindi)।

Quantum Physics और Quantum Information में करियर पर हम बात करें, उसके पहले यह बताएं कि Classical Physics और Quantum Physics  में क्या मुख्य अंतर है? 

  • इसे हम ऐसे समझ सकते हैं कि Atomic Scale पर Classical Physics जिन सवालों का जवाब नहीं दे पाता, Quantum Physics उसका जवाब देता है। किसी भी चीज की बहुत ही छोटे या सूक्ष्ण स्तर पर जाकर Quantum Physics से उसकी गणना की जा सकती है।

Quantum Physics को समझना मुश्किल क्यों माना जाता है? 

  • क्योंकि Quantum Mechanics “Reality and locality” कॉन्सेप्ट से बाहर जाता है। यह हमारे दैनिक जीवन के अनुभव से बिल्कुल अलग है।

Quantum Information  का मतलब क्या है?

  • यदि हम Information को एक जगह से दूसरी जगह भेजने में Quantum Mechanics का इस्तेमाल करते हैं, तो वह Quantum Information कहलाता है। इसका एक उदाहरण Teleportation Protocol का आप ले सकते हैं। इसके जरिये आप कम से कम डेटा में सामने वाले को ज्यादा से ज्यादा जानकारी दे सकते हैं। आसान शब्दों में आप इसे ऐसे समझ सकते हैं, मान लें कि मेरे पास एक कलम है, मैं आपको सिर्फ इतना बताऊंगा कि मेरे पास एक कलम है और उसका रंग नीला है, लेकिन आपको इन दो बातों (एक कलम है, नीले रंग की) के अलावा बहुत-सी जानकारियां मिल जाएंगी कि वह कलम किस कंपनी की है, उसकी कीमत कितनी है आदि-आदि। Quantum Information को नष्ट नहीं किया जा सकता, उसका क्लोन भी नहीं बना सकते हैं। Classical Information की यूनिट Bit है, जबकि Quantum Information की यूनिट Qubit है।

आने वाले दिनों में Quantum Information से जुड़ी कौन-कौन सी तकनीकें देखने को मिलेंगी और यह हमारे जीवन को कितना प्रभावित करेगी?

  • Quantum Computer  पर खोज लगातार जारी है। अभी हम जिस Computer का इस्तेमाल कर रहे हैं, वह उससे कई गुणा ज्यादा Fast होगा। हम अपने पूरे जीवनकाल में जिन आंकड़ों की गणना नहीं कर पाएंगे, Quantum Computer उसे तुरंत कर देगा। Quantum Computer के आने के बाद Cyber Security के बारे में भी हमें सोचना होगा, क्योंकि बैंक से लेकर मेल तक के पासवर्ड का पता लगा लेना मामूली बात हो जाएगी।

कोई छात्र अगर Quantum Physics में करियर बनाना चाहे तो कैसे बना सकता है (Career in Quantum Physics in India in Hindi) उसके लिए सबसे अच्छे इंस्टीट्यूट कौन से हैं (Best institute for quantum physics in india)?

  • इसके लिए Physics से B.Sc. और  M.Sc. करना होगा। इसके बाद रिसर्च कर सकते हैं, जिसके लिए  Entrance Test निकालना होगा। देश में कई Entrance Test होते हैं – JEST (Joint Entrance Screening Test), TIFR (Tata Institute of Fundamental Research), IIT -JAM (Joint Admission Test for Masters), NET JRF (The Junior Research Fellowship)। Ph.D. के लिए लिखित परीक्षा के साथ Interview भी निकलना होता है। जिन जगहों पर Integrated Course है, वहां B.Sc. के बाद भी Entrance Test दे सकते हैं। Quantum Physics में Ph.D. आप Harish Chandra Research Institute (HRI) के अलावा Institute of Mathematical Sciences (IMSc),  Indian Institute of Technology (IIT), Tata Institute of Fundamental Research (TIFR) या फिर Raman Research Institute (RRI) से कर सकते हैं। Quantum Information के Theory पर सबसे ज्यादा Research करने वालों की संख्या HRI में है, जबकि RRI में Experimental Research हो रहे हैं।

Quantum Physics में करियर के लिहाज से आगे क्या-क्या संभावनाएं बनती हैं (Scope of Quantum Physics in India in Hindi)?

  • इसमें रिसर्च में और आगे जा सकते हैं या फिर एकेडमिक्स में जा सकते हैं, कॉलेज और इंस्टीट्यूट में पढ़ा सकते हैं। Post Doctorate के लिए यूरोप या अमेरिका जा सकते हैं। IIT या फिर  IISc में फैकल्टी बनने के लिए Post Doctorate और 3 साल का Experience जरूरी होता है। Inspire Faculty के तौर पर 3 साल का Experience लेकर IIT या फिर  IISc के लिए कोशिश कर सकते हैं।

Quantum Physics में करियर बनाने के बाद कितनी सैलरी मिल सकती है, छात्र यह भी जानना चाहेंगे (Quantum Physicist Salary in India in Hindi)?

  • अगर आप भारत में Ph.D. करते हैं तो 30,000-35,000 रुपये स्कॉलरशिप मिलती है। उसके बाद Post Doctorate करते हैं तो भारत में 50,000 रुपये हर महीने मिलते हैं। फिर जब फैकल्टी बन जाते हैं तो 70,000 रुपये प्रतिमाह से शुरुआत होती है।

42 thoughts on “रिसर्च स्कॉलर से जानिए, Quantum Physics में कैसे बना सकते हैं करियर”

  1. बहुत बढ़िया।
    हर बार अलग तरह की जानकारी मिलती है यहां विभिन्न विषयों की।

    Reply
  2. करियर के प्रति सचेत युवाओं के लिए बढ़िया जानकारी।

    Reply
  3. Good informative interview and initiative to encourage youth to carry research in the emerging field of Quantum Physics. Such detailed analysis with future prospects will attract youth. It is a general perception among youth in our country (esp. North India) that choosing career in the research field has limited scope for growth. Such view can be changed by spreading information of related field as discussed in this interview.

    Reply

Leave a Comment